आमलकी एकादशी – Amalaki Ekadashi

Ekadashi Date: Amalaki Ekadashi: Wednesday, 20 March 2024

एकादशी के व्रत का सम्वन्ध तीन दिनों की दिनचर्या से है। भक्त उपवास के दिन, से एक दिन पहले दोपहर में भोजन लेने के उपरांत शाम का भोजन नहीं ग्रहण करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि अगले दिन पेट में कोई अवशिष्ट भोजन न बचा रहे। भक्त एकादशी के दिन उपवास के नियमों का कड़ाई से पालन करते हैं। तथा अगले दिन सूर्योदय के बाद ही उपवास समापन करते हैं। एकादशी व्रत के दौरान सभी प्रकार के अनाज का सेवन वर्जित होता है।

जो लोग किसी कारण एकादशी व्रत नहीं रखते हैं, उन्हें एकादशी के दिन भोजन में चावल का प्रयोग नहीं करना चाहिए तथा झूठ एवं परनिंदा से बचना चाहिए। जो व्यक्ति एकादशी के दिन विष्णुसहस्रनाम का पाठ करता है, उस पर भगवान विष्णु की विशेष कृपा होती है।

जब एकादशी दो दिन की होती है तब दूजी एकादशी एवं वैष्णव एकादशी एक ही दिन अर्थात दूसरे दिन मनाई जाती है।

शुरुआत तिथिएकादशी
कारणभगवान विष्णु का पसंदीदा दिन।
उत्सव विधिव्रत, पूजा, एकादशी व्रत कथा, भजन-कीर्तन, सत्यनारायण कथा।

एकादशी कब है? – Ekadashi Kab Hai

आमलकी / रंगभरनी / कुंज / खाटू एकादशी [स्थान – नई दिल्ली]

समर्थ / वैष्णव / इस्कॉन / गौड़ीय – बुधवार, 20 मार्च 2024
व्रत तोड़ने(पारण) का समय – 21 मार्च 2024, 7:28am से 8:39am

आमलकी एकादशी का मुहूर्त
एकादशी तिथि : 19 मार्च 2024, 10:51pm – 21 मार्च 2024, 12:52am

एकादशी व्रत कथा

त्रिस्पृशा एकादशी महायोग

जब एक ही दिन एकादशी, द्वादशी तथा रात्रि के अंतिम प्रहर में त्रयोदशी भी हो तो उसे त्रिस्पृशा कहलाती है।
यदि सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक थोड़ी सी एकादशी, द्वादशी, एवं अन्त में किंचित् मात्र भी त्रयोदशी हो, तो वह त्रिस्पृशा-एकादशी कहलाती है। त्रिस्पृशा एकादशी महायोग कथा

एकादशी के प्रकार

एकादशी दो प्रकार की होती है। 1 सम्पूर्णा 2. विद्धा
1) सम्पूर्णा – जिस तिथि में केवल एकादशी तिथि होती है अन्य किसी तिथि का उसमे मिश्रण नहीं होता उसे सम्पूर्णा एकादशी कहते है।

2) विद्धा एकादशी पुनः दो प्रकार की होती है
2. A) पूर्वविद्धा – दशमी मिश्रित एकादशी को पूर्वविद्धा एकादशी कहते हैं। यदि एकादशी के दिन अरुणोदय काल (सूरज निकलने से 1घंटा 36 मिनट का समय) में यदि दशमी का नाम मात्र अंश भी रह गया तो ऐसी एकादशी पूर्वविद्धा दोष से दोषयुक्त होने के कारण वर्जनीय है यह एकादशी दैत्यों का बल बढ़ाने वाली है। पुण्यों का नाश करने वाली है।

वासरं दशमीविधं दैत्यानां पुष्टिवर्धनम ।
मदीयं नास्ति सन्देह: सत्यं सत्यं पितामहः ॥ [पद्मपुराण]
दशमी मिश्रित एकादशी दैत्यों के बल बढ़ाने वाली है इसमें कोई भी संदेह नहीं है।

2. B) परविद्धा – द्वादशी मिश्रित एकादशी को परविद्धा एकादशी कहते हैं।
द्वादशी मिश्रिता ग्राह्य सर्वत्र एकादशी तिथि।
द्वादशी मिश्रित एकादशी सर्वदा ही ग्रहण करने योग्य है।

इसलिए भक्तों को परविद्धा एकादशी ही रखनी चाहिए। ऐसी एकादशी का पालन करने से भक्ति में वृद्धि होती है। दशमी मिश्रित एकादशी से तो पुण्य क्षीण होते हैं।

** एकादशी ये उपरोक्त मत वैष्णव, गौड़ीय वैष्णव एवं इस्कॉन संप्रदाय के मतानुसार है।

संबंधित जानकारियाँ

आगे के त्यौहार(2024)

Amalaki Ekadashi: 20 March 2024Papavimocani Ekadashi: 5 April 2024Kamada Ekadashi: 19 April 2024Varuthini Ekadashi: 4 May 2024Mohini Ekadashi: 19 May 2024Apara Ekadasi: 3 June 2024Pandava Nirjala Ekadashi: 18 June 2024Yogini Ekadasi: 2 July 2024Devsayani Ekadashi: 17 July 2024Kamika Ekadashi: 31 July 2024Putrada / Pavitra Ekadashi: 16 August 2024Aja / Annada Ekadashi: 29 August 2024Parsva Ekadashi: 14 September 2024Papankusha Ekadashi (Samart): 13 October 2024Papankusha Ekadashi (Vaishnav, Gaudiya, iskcon): 14 October 2024Rama Ekadashi: 28 October 2024Devotthan Ekadashi: 12 November 2024Utpanna Ekadashi: 26 November 2024Mokshada Ekadashi: 11 December 2024Saphala Ekadashi: 26 December 2024

आवृत्ति – अर्ध मासिक

समय – 1 दिन

शुरुआत तिथि – एकादशी

समाप्ति तिथि – एकादशी

महीना – प्रत्येक महीने की एकादशी तिथि

मंत्र – ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नमः।, हरे राम महामंत्र

कारण – भगवान विष्णु का पसंदीदा दिन।

उत्सव विधि – व्रत, पूजा, एकादशी व्रत कथा, भजन-कीर्तन, सत्यनारायण कथा।

महत्वपूर्ण जगह – चारों धाम, श्री विष्णु मंदिर, श्री राम मंदिर, श्री कृष्ण मंदिर, इस्कॉन मंदिर, सभी वैष्णव घरों मे।