janmo se bhatki hui naav ko

जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया
राम मेरे मुझ पापी को भी तेरा सहारा मिल गया,
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

उल्जा हुआ था मैं माया के जंगल में तुम ने बचाया मुझे,
श्रधा सबुरी का वरदान दे कर जीना सिखाया मुझे,
तेरी किरपा से गंगा के जल में पानी ये खारा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

RELATED – भगवान् का भजन क्यों ज़रूरी है

प्रथमाष्टमी – Prathamastami

केहने को तो चल रही थी ये सांसे बे जान थी आत्मा
हां मेरे पापो का जन्मो के शापों का तुमने किया खात्मा
तुमने छुआ तो तुमहरा हुआ तो जीवन दोबरा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

ना जाने कितने जन्म और जलता तृष्णा की इस आग में
काले सवेरे थे लिखे अँधेरे थे श्याद मेरे भाग में
तुम आये ऐसे अंध्रो में जैसे कोई सितारा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

Leave a Reply