Bhakti Ki Hai Raat Lyrics jain Stavan 

( राग : एक तेरा नाम मुजको . . . )

भक्ति की है रात ( 2 ) , दादा आज थाने आणो है , 

थाने कोल निभानो हैं . . . भक्ति की है रात . . . 

दरबार ओ दादा , ऐसो सज्यो प्यारो दयालु आपरो . . 

सेवा में ओ दादा , सगळा खड्या आकर , हकुम बस आप रो , 

सेवा में थारी ( 2 ) , ओ दादा आज बीच जाणो हैं , 

भक्ति की है रात . . . 1 

भक्ति हैं ये प्यारी , भक्ति करा जमकर प्रभु क्युं देर करो , 

वादो थारो दादा , भक्ति में आवा रो , घणी मत देर करो ,

भजना सु थाने ( 2 ) , ओ दादा आज तो रिझाणो हैं , 

भक्ति की है रात . . . 2 

जा कुछ हैं मारो , अर्पण करा सारो प्रभु स्वीकार करो , 

भक्तों सु गलती तो होती ही आई हैं , प्रभु मत ध्यान धरो , 

मारा प्रभुवर ( 2 ) , थारो दास ओ पुरानो है , 

भक्ति की है रात . . . 3

RELATED – Jaya Ekadashi Vrat | जया एकादशी व्रत

मेरे घर राम आये हैं | Mere Ghar Ram Aaye Hain | Payal Dev

Leave a Reply