राम लक्ष्मण ना माँगो गुरुजी,
वो तो देने के क़ाबिल नहीं हैं,
उनकी छोटी उमरिया अभी है,
बन में जाने के क़ाबिल नहीं हैं…


राम के सर पे मुकुट सजे हैं,
और चंदन के तिलक लगे हैं,
सिर झुकाने के क़ाबिल नहीं है,
राम लक्ष्मण ना माँगो गुरुजी…

इनके अंगों में बटुका सजे हैं,
और कमर पीताम्बर सजे हैं,
धनुष उठाने के क़ाबिल नहीं हैं,
राम लक्ष्मण ना माँगो गुरुजी…

उनके पैरों में पायल बंधे हैं,
उनके हाथों में लाली लगी हैं,
कंकड़ पे चलने के क़ाबिल नहीं हैं,
राम लक्ष्मण ना माँगो गुरुजी…

राम लक्ष्मण ना माँगो गुरुजी,
वो तो देने के क़ाबिल नहीं हैं,
उनकी छोटी उमरिया अभी है,
बन में जाने के क़ाबिल नहीं हैं…


Related – मेरा श्याम बड़ा रंगीला लिरिक्स

Bhagavad-Gita Character List

ram lakshman na maago guruji,
vo to dene ke kaabil nahi hain,

ram lakshman na maago guruji,
vo to dene ke kaabil nahi hain,
unaki chhoti umariya abhi hai,
ban me jaane ke kaabil nahi hain…


ram ke sar pe mukut saje hain,
aur chandan ke tilak lage hain,
sir jhukaane ke kaabil nahi hai,
ram lakshman na maago guruji…

inake angon me batuka saje hain,
aur kamar peetaambar saje hain,
dhanush uthaane ke kaabil nahi hain,
ram lakshman na maago guruji…

unake pairon me paayal bandhe hain,
unake haathon me laali lagi hain,
kankad pe chalane ke kaabil nahi hain,
ram lakshman na maago guruji…

ram lakshman na maago guruji,
vo to dene ke kaabil nahi hain,
unaki chhoti umariya abhi hai,
ban me jaane ke kaabil nahi hain…

Leave a Reply